Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

सत्य की खोज

“सत्य की खोज”
कलि काल में दुनिया से आज सत्य ही लापता है,
शिष्टाचार सत्कर्मों का किसी को न कोई पता है।
जिसे देखो वही आज बनकर बैठा अधर्म का पुजारी,
बड़े बड़े सब अधर्म करे यही है जनता की लाचारी।
प्रत्येक अंतर्मन में दिखता लालच और आडम्बर,
जाने क्या होगा जगत का चलकर इस डगर।
कोई हवस का भूखा कोई पैसों का प्यासा ,
हर एक आंख में दिखती आज काम पिपासा।
भटक रहा आज का मानव सत्य की खोज में,
नहीं दिखती सच्चाई की झलक किसी के ओज में।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

3 Likes · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नयी नवेली
नयी नवेली
Ritu Asooja
खुद की एक पहचान बनाओ
खुद की एक पहचान बनाओ
Vandna Thakur
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बदलाव जरूरी है
बदलाव जरूरी है
Surinder blackpen
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*प्रणय प्रभात*
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
16---🌸हताशा 🌸
16---🌸हताशा 🌸
Mahima shukla
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
Anand Kumar
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
-- प्यार --
-- प्यार --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
पिछले पन्ने 5
पिछले पन्ने 5
Paras Nath Jha
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
Kshma Urmila
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
Loading...