Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2024 · 1 min read

सत्य की खोज

एक राही,
भटकते रहा,
सत्य की खोज में,
रोशनी तले अंधेरा,
राही को समझ नहीं आया ।

सत्य की खोज में,
तीर्थयात्रा जारी रही,
माता–पिता की सेवा सें परे,
अपने ही घर की चारधाम,
राही को समझ नहीं आया ।

खाली हाथ,
पिता स्वयं अभावग्रस्त,
कमी महसूस न होने दिया,
अपने ही ठाट–बाट का राज,
राही को समझ नहीं आया ।

बिमारी हालात,
फिर भी सकुशलता की बात,
माँ करती रही,
सदैव मुस्कुराना खुद की रहस्य,
राही को समझ नही.आया ।

मसान घाट,
मुर्दे की मुखाग्नि,
जलता हुआ शरीर देख,
सत्य क्या है ?
तब राही को समझ में आया ।

#दिनेश_यादव
काठमाण्डू (नेपाल)

2 Likes · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
gurudeenverma198
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
Radhakishan R. Mundhra
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
नेताम आर सी
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
*
*"सिद्धिदात्री माँ"*
Shashi kala vyas
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
Ravi Prakash
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
बरसात
बरसात
लक्ष्मी सिंह
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
जीना सिखा दिया
जीना सिखा दिया
Basant Bhagawan Roy
बाप की गरीब हर लड़की झेल लेती है लेकिन
बाप की गरीब हर लड़की झेल लेती है लेकिन
शेखर सिंह
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
आने वाला कल
आने वाला कल
Dr. Upasana Pandey
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
Loading...