Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

*सजा- ए – मोहब्बत *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

*सजा- ए – मोहब्बत *

आहटें यादों की सताने लगीं हैं अब मुझको
बढ़ती हुई उम्र है और उनका गम बेहिसाब ।
सही किया या गलत ये तो पता नहीं है मुझको
हुक्म जैसा मिला अल्लाह से वही तामील किया ।

यूँ तो ये उम्र कम से भी कमतर लगती है
उनके मिलने की बजह अब मुझको कम लगती है ।
कहीं भीड़ में दिख भी जाएँ अगरचे इत्तेफाक से
अपनी किस्मत नहीं मुझको इतनी हसींन लगती है ।

एक गोला बादलों का मेरे पेट में गुड़मुड़ाया था
ऐसा लगा कहीं आस पास ही उनका साया था ।
भीड़ थी बहुत उस वक्त बारिशों का मौसम था
दामिनी चाँद की बादलों की चिलमन से एक पल को झांकी थी ।

आशिकी के अरमान ऐय खुदा किसी को न बख्शना
बद्दुआओं के सिवा कुछ भी हंसिल कहाँ हुआ होगा तुझको ।
एक तरफ़ा इस तकलीफ़ को सहने का दम कहाँ सब में होता है
ता उम्र तड़पना बिना गुनाह के किसी सजा से कम क्या होगा ।

200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
👌एक न एक दिन👌
👌एक न एक दिन👌
*Author प्रणय प्रभात*
3278.*पूर्णिका*
3278.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
gurudeenverma198
यदि मन में हो संकल्प अडिग
यदि मन में हो संकल्प अडिग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Nishant prakhar
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
धार्मिक नहीं इंसान बनों
धार्मिक नहीं इंसान बनों
Dr fauzia Naseem shad
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
*कुछ रखा यद्यपि नहीं संसार में (हिंदी गजल)*
*कुछ रखा यद्यपि नहीं संसार में (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
फ़ितरत अपनी अपनी...
फ़ितरत अपनी अपनी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
*दिल का आदाब ले जाना*
*दिल का आदाब ले जाना*
sudhir kumar
"संयोग-वियोग"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...