Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

सच और सोच

शीर्षक – सच और सोच
*****************
सच और सोच हमारी रहती हैं।
हम ही तो भीड़ बने रहते हैं
न तन्हाई न जोश उमंग हैं।
जिंदगी और जीवन अलग,
सच और सोच रखतें हैं।
सभी अकेले और तन्हा ,
यही सच और सोच कहते हैं।
हां सच और सोच समय के ,
समुद्र में लहर हम बनते हैं।
आज यही सच और सोच,
आधुनिक हम जो बनते हैं।
न मां पिता के साथ-साथ,
सच और सोच हम कहते हैं।
बस यही जीवन के संग,
सच और सोच के रंग होते हैं।
आज हम सभी अपनी,
सच और सोच बदलते हैं।
आओ हम सभी अपनो,
के साथ सच और सोच साझा करते हैं।
*****************
नीरज अग्रवाल चन्दौसी उ.प्र

Language: Hindi
76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-544💐
💐प्रेम कौतुक-544💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr Shweta sood
Janab hm log middle class log hai,
Janab hm log middle class log hai,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
दोस्ती तेरी मेरी
दोस्ती तेरी मेरी
Surya Barman
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
"दो मीठे बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
"" *श्रीमद्भगवद्गीता* ""
सुनीलानंद महंत
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
Loading...