Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

सच और झूँठ

झूठें और बेईमान व्यक्ति जब,मीठे मीठे प्रसंग सुनाते है।
जानते हैं सब फिर भी सबके,मन को बहुत वो भाते हैं।।
झूँठ वाला लाखों के बीच हमेशा अकेला पाया जाता है।
जितना दबाना चाहो झूँठ तुम,झूँठ तेज़ी से आगे बढ़ता जाता है।।
क्योंकि अक्सर झूँठ हमेशा,सच का नक़ाब पहन कर आता है।
और इसीलिए शरीफ व्यक्ति,झूँठ को आसानी से पकड़ नहीं पाता है।।
झूँठ का दामन हर व्यक्ति क्यों, कस कर थाम के रखना चाहता है।
क्या व्यापार क्या घर सरकार,अधिकतर झूँठ से चलाना चाहता है।।
बड़े से बड़े हर झूँठ का अंत हमेशा,बारंबार सच ही तो करवाता है।
सच कठोर कितना भी हो फिर भी,अंत में सच ही स्वीकारा जाता है।।
सच की राह पर चलने वाला ही,हमेशा सफलता को गले लगाता है।
जबकि झूठ बोलने वाला बीच राह में लड़खड़ाकर ही गिर जाता है।।
कहे विजय बिजनौरी सच्चा व्यक्ति,दिलों पर सबके राज कर पाता है।
और झूँठा व्यक्ति चाहने वालों को अपने खून के आंसू रुलाता है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
तेरी सारी चालाकी को अब मैंने पहचान लिया ।
Rajesh vyas
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
........
........
शेखर सिंह
कुतूहल आणि जिज्ञासा
कुतूहल आणि जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
मुक्तक
मुक्तक
Rashmi Sanjay
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Sukoon
💐प्रेम कौतुक-166💐
💐प्रेम कौतुक-166💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन दया का
जीवन दया का
Dr fauzia Naseem shad
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
Kumar Kalhans
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
*Author प्रणय प्रभात*
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
surenderpal vaidya
तुम कहो कोई प्रेम कविता
तुम कहो कोई प्रेम कविता
Surinder blackpen
रंगों का त्योहार होली
रंगों का त्योहार होली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बंद पंछी
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
Loading...