Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

*संस्कारों की दात्री*

टूटती जब हर इक आस है
माँ ही होती मेरे पास है
प्यार से मुझको सहलाती वो
मेरा हर लेती संत्रास है

जब भी सपनो में आती है माँ
मुझको ढाढस बंधा जाती है
मेरी चिंता, सभी दुःख मेरे
साथ अपने वो ले जाती है

दोस्त बन जाती थी वो मेरी
संग घंटो वो बतियाती थी
अपने दुःख, सारी तकलीफ़ वो
भूलकर , गाती- मुस्काती थी

आज भी मेरे मन में बसी
प्यार-ममता की मूरत है वो
सब बलाओं से रखती बचा
जैसे टीका नज़र का है वो

मेरे बचपन की थाती है वो
मेरे जीवन की बाती वही
मुझको मानव बनाकर गयी
संस्कारों की देकर बही
…………

Language: Hindi
5 Likes · 3 Comments · 1411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
--फेस बुक की रील--
--फेस बुक की रील--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
पहचान
पहचान
Dr.S.P. Gautam
चले हैं छोटे बच्चे
चले हैं छोटे बच्चे
कवि दीपक बवेजा
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kumar lalit
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*कभी लगता है : तीन शेर*
*कभी लगता है : तीन शेर*
Ravi Prakash
नया साल
नया साल
umesh mehra
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
■ दुर्भाग्य
■ दुर्भाग्य
*Author प्रणय प्रभात*
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-269💐
💐प्रेम कौतुक-269💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
मेरी अंतरात्मा..
मेरी अंतरात्मा..
Ms.Ankit Halke jha
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...