Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

संसार एक जाल

“संसार एक जाल”
चारों तरफ फैली हुई धोखेबाजी और मक्कारी है,
भोले भाले लोगों को लूटना इनकी कलाकारी है।
सोच समझ करो भरोसा आज के तुम इंसानों पर,
न जाने कब फेर दे पानी वो तुम्हारे अहसानों पर।
जरूरतमंद जान तुम जिसका भला करने जाओगे,
हो सकता है उसी के हाथों तुम ठग लिए जाओगे।
चाहे हो कोई पड़ोसी या कोई तुम्हारा नाते रिश्तेदार,
भरोसा करने से पहले तुम अच्छे से कर लो विचार।
बेईमानी और जालसाजी का चारों ओर है बोलबाला,
इनके चक्कर में फंसकर लूट रहा इंसान भोलाभाला।
कोई किसी और की प्रॉपर्टी अपनी बताकर बेच रहा,
नौकरी दिलाने वादे करके कोई झूठे सपने बेच रहा।
सोशल मीडिया में कोई सुंदर लड़की बन लूट रहा,
इनके झांसे में फंसकर अपने पैसों से नाता टूट रहा।
आधुनिक युग में तो ठगी भी ऑनलाइन होने लगी,
लूटी जा रही भोली जनता इन्हें लगती है दिल्लगी।
ओटीपी पिन बताकर लोगों के खाली होते खाते,
माथा पकड़ रोते फिरते अपने भोलेपन पर पछताते।
आज की दुनिया में चारों ओर फैला ये मकड़जाल,
धोखे से बचने समझो तुम संसार को एक जाल।
सावधानी और सतर्कता ही इनसे बचने के हथियार हैं,
नहीं रहे तुम जागरूक तो समझो तुम्हारा बेड़ा पार है।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
देवराज यादव
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आवारा पंछी / लवकुश यादव
आवारा पंछी / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मूरत
मूरत
कविता झा ‘गीत’
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जो परिवार और रिश्ते आपने मुद्दे आपस में संवाद करके समझ बूझ
जो परिवार और रिश्ते आपने मुद्दे आपस में संवाद करके समझ बूझ
पूर्वार्थ
ससुराल में साली का
ससुराल में साली का
Rituraj shivem verma
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
सच तो तेरा मेरा प्यार हैं।
सच तो तेरा मेरा प्यार हैं।
Neeraj Agarwal
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
*प्रणय प्रभात*
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
सब सूना सा हो जाता है
सब सूना सा हो जाता है
Satish Srijan
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
पं अंजू पांडेय अश्रु
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
शेखर सिंह
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
17. बेखबर
17. बेखबर
Rajeev Dutta
कुछ याद बन
कुछ याद बन
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
Sanjay ' शून्य'
संस्कृति संस्कार
संस्कृति संस्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदरा बरसे
बदरा बरसे
Dr. Kishan tandon kranti
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
Loading...