Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

संवेदनाएं जिंदा रखो

इसीलिए तो कहता हूं, संवेदनाएं जिंदा रखो।
संवेदनाएं . . . . . .
किसी की दुःख,
किसी की तकलीफ का,
तुम्हें एहसास नहीं होता,
तो, तुम जिंदा लाश हो।
संवेदना जब मर जाती है,
तो असंवेदनशील हो जाती है।
इसीलिए तो कहता हूं,
संवेदनाएं जिंदा रखो।
संवेदनाएं . . . . . .
चलो हम अपने राष्ट्र को,
अमन चैन का चमन बनाएं।
मजहबी बंधन तोड़ कर,
भाईचारा जग में फैलाएं।
कोई भी हमको तोड़ न सके,
रिश्तों की मजबूत दीवार बनाएं।
सांप्रदायिकता छू न सके,
प्रगाड़ता की मिसाल बनाएं।
किसी मोड़ पर दुश्मन से भी भेंट हो जायें तो शर्मिन्दा न हो जाए।
इसीलिए तो कहता हूं,
इंसानियत जिंदा रखो।
संवेदनाएं . . . . . .

नेताम आर सी

Language: Hindi
1 Like · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हारे साथ,
तुम्हारे साथ,
हिमांशु Kulshrestha
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
खंजर
खंजर
AJAY AMITABH SUMAN
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
प्यार जताना नहीं आता मुझे
प्यार जताना नहीं आता मुझे
MEENU SHARMA
फ्रेम  .....
फ्रेम .....
sushil sarna
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
#कालचक्र
#कालचक्र
*प्रणय प्रभात*
"" *गीता पढ़ें, पढ़ाएं और जीवन में लाएं* ""
सुनीलानंद महंत
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
तज़्किरे
तज़्किरे
Kalamkash
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
Shashi kala vyas
भावुक हृदय
भावुक हृदय
Dr. Upasana Pandey
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...