Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

संवाद होना चाहिए

बढ़ रही असहिष्णुता आज समाज में
क्षीण होती उदारता की भावना समाज में ।१।
बढ़ रहा संवाद अब, संवादहीनता की ओर
मानस भी बढ़ रहा भिन्नता की ओर।२।
है अनेक समस्या आज समाज की
है निहित समाधान इसका संवाद ही।३।
प्रत्येक समस्या का समाधान होना चाहिए
अवश्य ही आज, संवाद होना चाहिए ।४।
हत्या, आत्महत्या हो रही समाज में
अनेक अपराधों का बचाव भी संवाद में ।५।
हो अधिक से अधिक परस्पर संवाद
विकसित हो अब अधिकतर संवाद।६।
मानस न हो अपनी दिनचर्या में व्यस्त
अभाव न रहें अब बनने में स्वस्थ।७।
अपनो के लिए तो समय निकालना चाहिए
अवश्य ही आज, संवाद होना चाहिए ।८।
संवाद का अभाव , वैचारिक संकीर्णता
परस्पर लड़ना-झगड़ना इसका ही कारण ।९।
गिरता स्तर समाज में आज संवाद का
फैल रहा समाज में अशान्ति का वातावरण।१०।
कर रहा मानव एक-दूजे में शंका
बन रहा यही विनाश, त्रासदी का कारण ।११।
अब तो गहन विचार होना चाहिए
अवश्य ही आज, संवाद होना चाहिए ।१२।
विखरते सम्बध, टूटता परिवार
मानव यह जीवन करता निराधार।१३।
हो रहा जीवन नर्क में परिवर्तित
समाज भी हो रहा आज खंडित।१४।
#एकाकी और #अवसाद में विराम होना चाहिए
अवश्य ही आज, संवाद होना चाहिए।१५।

✍#संजय_कुमार_सन्जू
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजय कुमार संजू
View all
You may also like:
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
कल तलक
कल तलक
Santosh Shrivastava
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
पथप्रदर्शक
पथप्रदर्शक
Sanjay ' शून्य'
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
सियासत
सियासत
हिमांशु Kulshrestha
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
बेटियां बोझ नहीं होती
बेटियां बोझ नहीं होती
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
"गुजरा ज़माना"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
*पॉंच दोहे : पति-पत्नी स्पेशल*
*पॉंच दोहे : पति-पत्नी स्पेशल*
Ravi Prakash
Loading...