Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2019 · 1 min read

संयम

श्रम ,संयम की वंदना, करता जा तू कर्म।
कर्म करे किस्मत बने, जीवन का यह मर्म।।

जीवन के हर क्षेत्र में, संयम है अनिवार्य।
मंजिल चूमेगी कदम, पूरे होगे कार्य।।

संयमीत रह कर करें,जग के सारे काज।
अक्सर जाता है बहक, चंचल मनुज मिजाज।।

संयम का पालन करें, मिटे रोग संताप।
नित्य नियम अभ्यास से, निर्मल होते आप।।

संयम उतना ही रखें, जितना हो अनिवार्य।
चुप रहकर अन्याय को, करे नहीं स्वीकार्य।।
-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
409 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
उदासियाँ  भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
_सुलेखा.
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
2925.*पूर्णिका*
2925.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
राजनीति
राजनीति
Awadhesh Kumar Singh
*कुल मिलाकर आदमी मजदूर है*
*कुल मिलाकर आदमी मजदूर है*
sudhir kumar
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
"जलन"
Dr. Kishan tandon kranti
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
कवि रमेशराज
कवि की लेखनी
कवि की लेखनी
Shyam Sundar Subramanian
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मिरे मिसरों को ख़यालात मत समझिएगा,
मिरे मिसरों को ख़यालात मत समझिएगा,
Shwet Kumar Sinha
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
Rj Anand Prajapati
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
Shweta Soni
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू फ़रिश्ता है अगर तो
तू फ़रिश्ता है अगर तो
*प्रणय प्रभात*
Loading...