Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

संघर्ष

जब ,
गहरी ख़मोशी में
तब्द़ील होती है,
बच्चों की किलकारी ।
जब ,
गिरने लगता है स्वेद,
माँ के शांत माथे से ।
जब ,
गीला करती हैं धरा को,
पिता की देह से गिरीं
बूँदें पसीने की ।
जब ,
खुली हवा के लिए
तरसते हैं,भाई की
किताब के पृष्ठ
कई दिनों तक ।
जब ,
चलते-चलते ,यक-ब-यक,
ठिठक-ठिठक से
जाते हैं ,पितामह ।
जब ,
जपते-जपते अचानक
चिंता का पर्याय
बनने लगती है,
दादी की हरिनाम की माला ।
जब ,
पड़ोस द्वारा
खोदी खाई पार करने
कम पड़ती है ,
हमारी छलाँग ।
जब ,
ताने समाज के
सुनते हैं, हमारे
कान अनवरत ।
तब ,
कहीं जाकर
होती है शादी
किसी ग़रीब की
बेटी की ।लेकिन-
कितनी आभाहीन …?
कितनी पीड़ा युक्त …..?
बिल्कुल-
प्रसव-वेदना जैसी ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक ।

Language: Hindi
1 Like · 6 Comments · 1139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
एक साँझ
एक साँझ
Dr.Pratibha Prakash
वर्ष तिरासी से अब तक जो बीते चार दशक
वर्ष तिरासी से अब तक जो बीते चार दशक
Ravi Prakash
बालिका दिवस
बालिका दिवस
Satish Srijan
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
'अशांत' शेखर
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2812. *पूर्णिका*
2812. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
VEDANTA PATEL
💐प्रेम कौतुक-387💐
💐प्रेम कौतुक-387💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#दीनदयाल_जयंती
#दीनदयाल_जयंती
*Author प्रणय प्रभात*
'एकला चल'
'एकला चल'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
गीत
गीत
Kanchan Khanna
अहमियत हमसे
अहमियत हमसे
Dr fauzia Naseem shad
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
भीड से निकलने की
भीड से निकलने की
Harminder Kaur
“निर्जीव हम बनल छी”
“निर्जीव हम बनल छी”
DrLakshman Jha Parimal
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
Loading...