Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2022 · 3 min read

*श्री रामप्रकाश सर्राफ*

श्री रामप्रकाश सर्राफ
______________________________________
आपका जन्म 9 अक्टूबर 1925 को रामपुर (उत्तर प्रदेश) में हुआ । स्वतंत्रता प्राप्ति से पूर्व युवावस्था के प्रभात में रामपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बने । संघ के अनेक प्रशिक्षण शिविरों में भाग लेते हुए द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरु जी से निकट आत्मीयता प्राप्त की।
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के महापुरुषत्व से प्रभावित होकर दिल्ली जाकर प्रार्थना-सभा में उनके दर्शन किए तथा उस सभा में गाँधी जी द्वारा नीलाम की गई सोने की अंगूठी को खरीदा।
1951 में रामपुर में जनसंघ की स्थापना की। 1957 के लोकसभा चुनाव में जनसंघ के उम्मीदवार को भारी दबाव के बाद भी चुनाव में लड़ाया , जिसकी मुक्त कंठ से प्रशंसा नानाजी देशमुख ने की थी। 1962 में शांति शरण जी तथा तदुपरांत 1967 में जनसंघ के उम्मीदवार डॉक्टर सत्यकेतु विद्यालंकार के लोकसभा चुनाव की बागडोर आपके ही हाथ में थी । चुनाव न लड़ने की आपकी इच्छा को देखकर नानाजी देशमुख ने कहा था “You want to become king maker , not the king (आप राजा बनने में विश्वास नहीं करते अपितु राजा बनाने में विश्वास करते हैं।)”
आपातकाल में पुलिस आपको गिरफ्तार करने के लिए घर पर आई लेकिन आप काशीपुर (उत्तराखंड) गए हुए थे अतः गिरफ्तारी से बच गए । फिर भूमिगत रहे । 1977 में सांसद श्री राजेंद्र कुमार शर्मा को मंत्री बनाने के समर्थन में एक प्रतिनिधिमंडल के साथ दीनदयाल शोध संस्थान ,दिल्ली जाकर श्री नानाजी देशमुख आदि प्रमुख नेताओं से बात की। नानाजी देशमुख से आपने कहा था “रामपुर को कुछ और शक्ति दीजिए।”
आपको अनौपचारिक रूप से आपके नाना श्री सुंदरलाल जी ने गोद ले लिया था। उनकी मृत्यु के उपरांत कोई परोपकार का कार्य करने की दृष्टि से आपने सुंदर लाल इंटर कॉलेज की 1956 में स्थापना की । इस समाचार से प्रसन्न होकर आपको सर्व श्री नानाजी देशमुख, आचार्य कैलाश चंद्र देव बृहस्पति ,राजर्षि पुरुषोत्तम दास टंडन तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरु जी के शुभकामना संदेश प्राप्त हुए ।
नानाजी देशमुख ने अपने पत्र में लिखा ” परम मित्र श्री राम प्रकाश जी, सप्रेम नमस्कार । आपका कई दिनों के पश्चात एक पत्र मिला। आप अपने नाना जी की स्मृति में एक विद्यालय का निर्माण कर रहे हैं ,यह जानकर मुझे अतीव प्रसन्नता हुई ।……”
सुंदरलाल जी के वियोग की पीड़ा से आहत होकर आपने अपने हृदय की भावनाएँ एक पत्र द्वारा श्री गुरु जी को लिखी थीं। जिस के उत्तर में गुरुजी ने अत्यंत मार्मिक साँत्वना-भरा पत्र आपको प्रेषित किया था ।
अपनी निष्काम भावना के अनुरूप आपने दो बार 1976 तथा 2004 में सुंदर लाल इंटर कॉलेज के राष्ट्रीयकरण करने का प्रस्ताव सार्वजनिक रूप से रखा था।
1958 में स्थापित टैगोर शिशु निकेतन बच्चों की शिक्षा के लिए आपकी एक उत्तम कृति है । इसी के एक हिस्से में आप ने 1970 में राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय की स्थापना की।
आप प्रतिवर्ष 1956 से 1972 तक
दीनानाथ दिनेश जी को गीता प्रवचन के लिए रामपुर बुलाते थे तथा प्रारंभ में उनके प्रवचन सुंदर लाल इंटर कालेज तथा बाद में टैगोर शिशु निकेतन में आयोजित करते थे।
रामपुर में विश्व हिंदू परिषद के संस्थापक जिला अध्यक्ष रहे।
भारतीय जनता पार्टी का अभ्युदय आपके जीवन के लक्ष्यों में से एक था।
आप सर्वप्रिय तथा मृदु स्वभाव के धनी थे। 26 दिसंबर 2006 को 81 वर्ष की आयु में आपका निधन हो गया।
______________________________
*लेखक ः
रवि प्रकाश पुत्र श्री राम प्रकाश सर्राफ
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तुझे पाने की तलाश में...!
तुझे पाने की तलाश में...!
singh kunwar sarvendra vikram
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
■ लिख कर रखिए। सच साबित होगा अगले कुछ महीनों में।
■ लिख कर रखिए। सच साबित होगा अगले कुछ महीनों में।
*प्रणय प्रभात*
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
मकान जले तो बीमा ले सकते हैं,
मकान जले तो बीमा ले सकते हैं,
पूर्वार्थ
"परवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
Ravi Prakash
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
Shweta Soni
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
मोहब्बत में जीत कहां मिलती है,
मोहब्बत में जीत कहां मिलती है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Environment
Environment
Neelam Sharma
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य प्रेम से पाएंगे
सत्य प्रेम से पाएंगे
महेश चन्द्र त्रिपाठी
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नहीं-नहीं प्रिये!
नहीं-नहीं प्रिये!
Pratibha Pandey
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...