Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author
Nov 12, 2018 · 1 min read

श्रीयुत अटलबिहारी जी

श्रीयुत अटलबिहारी जी
राष्ट्र संस्कृति पालक बन की जन-रखवारी जी

जनसंघी ने संघर्षों का अनुपम बिगुल बजाया
राष्ट्र-भूमि पर मत्था टेका, रण में शीश उठाया
जय जवान, जय विज्ञान के हम आभारी जी
श्रीयुत अटलबिहारी जी

भारत को अनुपम प्रकाश सह दर्शन दिया सु छवि ने
जीवन की हर धूप-छाँव को हँस कर जिआ सु कवि ने
विश्व बंधु, सद्भाव, ज्ञान व गुण-पिचकारी जी
श्रीयुत अटलबिहारी जी

आप नहीं दुनिया में लेकिन फहराया यशमय ध्वज
हिंद धरा को आभा देगा, सद्लेखनमय सूरज
भारत-भू के मुखिया ,अविचल राष्ट् पुजारी जी
श्रीयुत अटलबिहारी जी
……………
पं बृजेश कुमार नायक

●इस रचना को मेरी कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।
पं बृजेश कुमार नायक

2 Likes · 1 Comment · 559 Views
You may also like:
मुस्कुराना कहा आसान है
Anamika Singh
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
सावन में साजन को संदेश
Tnmy R Shandily
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
✍️जेरो-ओ-जबर हो गये✍️
'अशांत' शेखर
हमने वफ़ा निभाई है।
Taj Mohammad
✍️कैद ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे अल्फाज़...
"धानी" श्रद्धा
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
✍️दिल बहल जाता है।✍️
'अशांत' शेखर
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
✍️जश्न-ए-चराग़ाँ✍️
'अशांत' शेखर
दिल्लगी दिल से होती है।
Taj Mohammad
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भारतीय सभ्यता की दुर्लब प्राचीन विशेषताएं ।
Mani Kumar Kachi
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
सबको मतलब है
Dr fauzia Naseem shad
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️चेहरा-ए-नक़्श✍️
'अशांत' शेखर
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मित्र
लक्ष्मी सिंह
इश्क।
Taj Mohammad
“ यादों के सहारे ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...