Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 3 min read

श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)

प्रजातंत्र का ध्यान कर, राजनीति चित लाय ।
नेताजी के गुण कहूं, कुर्सी शीश नवाय ।।
जय जय जय नेता महाराजा ।
प्रजातंत्र के तुम हो राजा ।।
गुण अवगुण कछु कहे न जाई ।
शारद शेष न कहत अघाई ।।
भारत ने आजादी पाई ।
प्रकटे उसी समय सब भाई ।।
चले गए राजा महाराजा ।
आप पधारे सहित समाजा ।।
पंच और सरपंच विधायक ।
आप ही हो कुर्सी के लायक ।।
आप ही मंत्री मुख्यमंत्री ।
राष्ट्रपति प्रधानमंत्री ।।
आपसे कोई बचे न कुर्सी।
महामहिम अध्यक्ष की कुर्सी ।।
जब भी कुर्सी कम पड़ जाती।
निगम मंडल में नई बन जाती ।।
तुमरी महिमा कही न जाई ।
सभी दलों में पैठ बनाई ।।
मूल्यों की राजनीति करते ।
बिना मूल्य कोई काम न करते ।।
तुम्हारा ध्यान धरे जो कोई ।
सकल पदारथ पावे सोई ।।
धन आभूषण रत्न चढ़ावे ।
वो नर सकल मनोरथ पावे ।।
श्रद्धा सहित जो भोग लगावे ।
सुरासुंदरी संग में लावे ।।
ता पर कृपा तुरत होई जाई ।
शंका मन मत पालहु भाई ।।
जिन पर ये कृपा बरसा दें।
रंक से राजा तुरत बना दें ।।
कई दल तोड़े कई बनाए ।
फिर भी मन में नहीं अघाए ।।
छवि आपकी है अति न्यारी ।
सत्ता सुंदरी आपको प्यारी ।।
बिन सत्ता व्यग्र हो जाते ।
मनगढ़ंत आरोप लगाते ।।
आंदोलन में रत हो जाते ।
गांव शहर सब बंद कराते ।।
जब भी सत्ता में आ जाते ।
शांत चित्त हो माल कमाते ।।
नहीं है कोई तुम्हारा सानी ।
बड़े बड़ों ने बात ये मानी ।।
तुम मिलकर सरकार बनाते ।
मूल्यों से सरकार गिराते ।।
कार्यपालिका पुलिस तुम्हारी ।
तुम पर सब जाते बलिहारी ।।
भ्रष्ट बेईमान सब बंदे ।
सादर देते हैं सब चंदे ।।
बाहुबली गुंडे मुस्तंडे ।
धर्म समाज के अंडे पंडे ।।
नामचीन उद्योगपति सब ।
व्यापारी धन्ना सेठ और पब ।।
कर जोरे सब द्वार खड़े हैं ।
नाथ आपके ठाट बड़े हैं ।।
तुमसे जो जन है टकराता ।
घोर कष्ट जीवन में पाता।।
नहीं सहाय उसका है कोई ।
जा पर कुदृष्टि आपकी होई ।।
आप में अवगुण सकल समाए ।
कौन गुणों की गिनती गाए ।।
कलयुग में है राज तुम्हारा ।
तुम्हें न कोई मारन हारा ।।
प्रेस मीडिया चंवर डुलाते ।
महिमा कहते नहीं अघाते ।।
आईएएस आईपीएस फिरते पीछे ।
सभी तुम्हारे हाथ के नीचे ।।
दिन को कह दो, रात हो जाए।
रात को कह दो, दिन हो जाए ।।
लेता नहीं तुमसे कोई पंगा ।
जब चाहो करवा दो दंगा ।।
तुमने सभी जनों को साधा ।
नहीं है कोई पथ में बाधा ।।
ऊंच-नीच का भेद बढ़ाया ।
अगड़े पिछड़ों को लड़वाया ।।
हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई ।
सबके हो प्रभु आप सहाई ।।
दो पल में सब को भड़का दें।
जब चाहे जब आप लड़ा दें ।।
नाथ और का करूं बढ़ाई ।
महिमा अकथ कही न जाई ।।
नेताजी को सुमर के, जो नर करता ध्यान ।
मोटी मुद्रा भेंट करे, तुरत होए कल्याण ।।
जो नर चालीसा पढ़े, हाईकमान सिर नाय ।
लोकसभा अरु विधानसभा, शीघ्र टिकट पा जाय ।।

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 466 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
..
..
*Author प्रणय प्रभात*
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Jo Apna Nahin 💔💔
Jo Apna Nahin 💔💔
Yash mehra
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रेम
प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
Ravi Prakash
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
साल ये अतीत के,,,,
साल ये अतीत के,,,,
Shweta Soni
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
DrLakshman Jha Parimal
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
एकाकीपन
एकाकीपन
Shyam Sundar Subramanian
3181.*पूर्णिका*
3181.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
Loading...