Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

श्रम दिवस

श्रम दिवस पर श्रम करने वालों को करता नमस्कार ,
जो श्रम पर शर्म करते हैं उनका करता मै तिरस्कार।
श्रम करने वालों की कभी भी नहीं होती जग मे हार,
आलस करने वालों की कभी नहीं होती है नैया पार।।

बीच भंवर में फंस जाते हैं करते रहते है तकरार,
रीत बनी है श्रम करने वालों का होता है सत्कार।
श्रम करने वालों के ही रास्ते खुलते जग में हजार,
जीवन के कठिन डगर पर संभावनाएं बडीअपार।।

श्रम करने से ही बनते हैं मार्क्स और अम्बेडकर ,
विपरीत परिस्थितियों मैं भी बन गए हैं दिनकर ।
झुककर रहना मंजूर नहीं है रहेंगे सदा तनकर ,
श्रम से ही जीत होती है बात रहे सदा मन पर ।।

शत शत नमन उन सबको जिसने किया है श्रम ,
मेहनत करने वालों का नहीं होता यहां कोई धर्म।
मानव होने के नाते मानवता के ही सब करें कर्म ,
जीवन रस मय बनेगा जीवन आनंद से हो भरपूर।।

सतपाल चौहान ।

Language: Hindi
3 Likes · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुजरे वक्त के सबक से
गुजरे वक्त के सबक से
Dimpal Khari
ज़िंदगी मौत पर
ज़िंदगी मौत पर
Dr fauzia Naseem shad
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Sukoon
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची  हैं उड़ाने,
उलझनें हैं तभी तो तंग, विवश और नीची हैं उड़ाने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...