Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 1 min read

श्रमिक जो हूँ मैं तो…

श्रमिक जो हूँ मैं तो…
~~°~~°~~°
दरकता है मेरा विश्वास भी,आईने की तरह ,
पड़ती है मार जब तन पर, क्षुधा की तो ,
उफनता है तन बदन झुलसती गर्मी में ,
दहकता है फिर तन भी शोलों की तरह ।
बिखरे सपनों का दर्द,आहों में भरकर ,
तोड़ता हूँ मैं पत्थर,जिन ऊँचे महलों के लिए ,
उन्हीं महलों की दीवारें तो ,
होती है अंजान मुझसे ,
श्रमिक जो हूँ मैं तो…
अरमानों की बस्ती में,मेरी पहचान कहाँ होती ,
सुकून से बैठ पाना भी मेरे किस्मत में नहीं,
बस यही लालसा रह गयी जीवन में,
जिन्दगी चार खंभो पर टिके छप्पर की तरह ,
जिसके नीचे, चैन से बस सो तो लूँ ,
बेजान लाशों की तरह ।

#विश्व_श्रमिक_दिवस_विशेष

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०१ /०५ /२०२२
वैशाख ,शुक्ल पक्ष , प्रतिपदा,रविवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

4 Likes · 6 Comments · 220 Views
You may also like:
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
जीवन दायिनी।
Taj Mohammad
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
परदेश
DESH RAJ
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
*** वीरता
Prabhavari Jha
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...