Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

श्रमिक जो हूँ मैं तो…

श्रमिक जो हूँ मैं तो…
~~°~~°~~°
दरकता है मेरा विश्वास भी,आईने की तरह ,
पड़ती है मार जब तन पर, क्षुधा की तो ,
उफनता है तन बदन झुलसती गर्मी में ,
दहकता है फिर तन भी शोलों की तरह ।
बिखरे सपनों का दर्द,आहों में भरकर ,
तोड़ता हूँ मैं पत्थर,जिन ऊँचे महलों के लिए ,
उन्हीं महलों की दीवारें तो ,
होती है अंजान मुझसे ,
श्रमिक जो हूँ मैं तो…
अरमानों की बस्ती में,मेरी पहचान कहाँ होती ,
सुकून से बैठ पाना भी मेरे किस्मत में नहीं,
बस यही लालसा रह गयी जीवन में,
जिन्दगी चार खंभो पर टिके छप्पर की तरह ,
जिसके नीचे, चैन से बस सो तो लूँ ,
बेजान लाशों की तरह ।

#विश्व_श्रमिक_दिवस_विशेष

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०१ /०५ /२०२२
वैशाख ,शुक्ल पक्ष , प्रतिपदा,रविवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
7 Likes · 6 Comments · 582 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*भाग्य से मिलते सदा, संयोग और वियोग हैं (मुक्तक)*
*भाग्य से मिलते सदा, संयोग और वियोग हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
Akib Javed
जाति का बंधन
जाति का बंधन
Shekhar Chandra Mitra
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
जिंदगी, क्या है?
जिंदगी, क्या है?
bhandari lokesh
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
"जीना-मरना"
Dr. Kishan tandon kranti
अजान
अजान
Satish Srijan
मां
मां
Irshad Aatif
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
Aditya Prakash
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
Buddha Prakash
चलो सत्य की राह में,
चलो सत्य की राह में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
कवि दीपक बवेजा
Suni padi thi , dil ki galiya
Suni padi thi , dil ki galiya
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-285💐
💐प्रेम कौतुक-285💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो भी क्या दिन थे,
वो भी क्या दिन थे,
Dr. Rajiv
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
दिल में है जो बात
दिल में है जो बात
Surinder blackpen
Li Be B
Li Be B
Ankita Patel
तेरे होकर भी।
तेरे होकर भी।
Taj Mohammad
Loading...