Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

श्रमिक जो हूँ मैं तो…

श्रमिक जो हूँ मैं तो…
~~°~~°~~°
दरकता है मेरा विश्वास भी,आईने की तरह ,
पड़ती है मार जब तन पर, क्षुधा की तो ,
उफनता है तन बदन झुलसती गर्मी में ,
दहकता है फिर तन भी शोलों की तरह ।
बिखरे सपनों का दर्द,आहों में भरकर ,
तोड़ता हूँ मैं पत्थर,जिन ऊँचे महलों के लिए ,
उन्हीं महलों की दीवारें तो ,
होती है अंजान मुझसे ,
श्रमिक जो हूँ मैं तो…
अरमानों की बस्ती में,मेरी पहचान कहाँ होती ,
सुकून से बैठ पाना भी मेरे किस्मत में नहीं,
बस यही लालसा रह गयी जीवन में,
जिन्दगी चार खंभो पर टिके छप्पर की तरह ,
जिसके नीचे, चैन से बस सो तो लूँ ,
बेजान लाशों की तरह ।

#विश्व_श्रमिक_दिवस_विशेष

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०१ /०५ /२०२२
वैशाख ,शुक्ल पक्ष , प्रतिपदा,रविवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
7 Likes · 6 Comments · 755 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
Raju Gajbhiye
"बागबान"
Dr. Kishan tandon kranti
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
कुत्तज़िन्दगी / Musafir baithA
Dr MusafiR BaithA
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
तेरी मुस्कान होती है
तेरी मुस्कान होती है
Namita Gupta
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
Ajay Kumar Vimal
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रुख़्सत
रुख़्सत
Shyam Sundar Subramanian
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
Harminder Kaur
अजीब बात है
अजीब बात है
umesh mehra
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...