Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2022 · 1 min read

श्रद्धा

श्रद्धा
~~°~~°~~°
श्रद्धा नहीं जब अपनेपन से ,
श्रद्धा फिर क्यूँ ,अंजान डगर से ।
बनती नित एक, नई कहानी ,
फिर क्यों श्रद्धा, अश्रद्धेय दीवानी।

बनती नित एक नई कहानी,
फिर क्यों श्रद्धा,अश्रद्धेय दीवानी…

लाड-प्यार से पली थी वो जो,
माता पिता की थी एक निशानी।
भावुक होता सारा घर था ,
रोती थी जब,ले अंखियों में पानी ।

बनती नित एक नई कहानी,
फिर क्यों श्रद्धा, अश्रद्धेय दीवानी…

भले बुरे का ख्याल न रक्खी ,
जिद पर अड़ गई नीयत बेमानी ।
बिखर गए जब सारे रिश्ते ,
रोयी थी तब, दादी और नानी ।

बनती नित एक नई कहानी,
फिर क्यों श्रद्धा,अश्रद्धेय दीवानी…

बचपन भी कितना अजीब है ,
स्निग्ध प्रेम का सहचर था जो।
जुबां उनकी अब खामोश पड़ी है ,
निष्ठुर दिल, क्यूँ हुई सयानी…

निष्ठुर दिल, क्यूँ हुई सयानी…
निष्ठुर दिल, क्यूँ हुई सयानी…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १६ /११/२०२२
मार्गशीर्ष ,कृष्ण पक्ष,अष्टमी ,बुधवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

Language: Hindi
8 Likes · 4 Comments · 670 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
2894.*पूर्णिका*
2894.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Few incomplete wishes💔
Few incomplete wishes💔
Vandana maurya
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इज़हार कर ले एक बार
इज़हार कर ले एक बार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
#अंतिम_उपाय
#अंतिम_उपाय
*Author प्रणय प्रभात*
फ़ितरत
फ़ितरत
Manisha Manjari
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
"फितरत"
Ekta chitrangini
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मानव  इनको हम कहें,
मानव इनको हम कहें,
sushil sarna
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
बादल (बाल कविता)
बादल (बाल कविता)
Ravi Prakash
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
अभिनव अदम्य
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
खुद को इंसान
खुद को इंसान
Dr fauzia Naseem shad
अनजान राहें अनजान पथिक
अनजान राहें अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
Dr Archana Gupta
Loading...