Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

श्याम-राधा घनाक्षरी

घनाक्षरी
आँगन में भोर भई, भोर भई भोर भई
राधिका हैरान भई, भोर कब हो गई
छम छम छम छम, बाजे जब घुंघरू तो
कहने लगीं सखियां, जाने कहां खो गई
चढ़ के अटेर पर, देखा जो दूर तक
सूरज था लाल-लाल,दुनिया क्यों सो गई
प्रेम की उमंग लिए, कृष्ण की तरंग लिए
भूल गई सुध बुध, श्याम श्याम हो गई।।
2
श्याम घनाक्षरी
झूम झूम नाचे नाचे, मेघ सम बरखा सी
काली-काली कजराली, अलकाएं बावरी
राधा सी ठिठोली करे, हंसे मुस्कराए सम
ग्राम-ग्राम नाचे फिरे, छेड़े तान बांसुरी
धक-धक दिल करे, धक-धक दिल कहे
बदनाम बादल है, मूरत ये साँवरी
चूर चूर करे चूर, लट लट घनश्याम
कहता उद्धव रहा, पानी संग आग री।।

*सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरा होकर मिलो
मेरा होकर मिलो
Mahetaru madhukar
छल.....
छल.....
sushil sarna
सब कुछ मिले संभव नहीं
सब कुछ मिले संभव नहीं
Dr. Rajeev Jain
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
Sakhawat Jisan
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
बेज़ुबान जीवों पर
बेज़ुबान जीवों पर
*प्रणय प्रभात*
ढलती उम्र -
ढलती उम्र -
Seema Garg
जोकर
जोकर
Neelam Sharma
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
I've lost myself
I've lost myself
VINOD CHAUHAN
"There comes a time when you stop trying to make things righ
पूर्वार्थ
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
सूनी आंखों से भी सपने तो देख लेता है।
सूनी आंखों से भी सपने तो देख लेता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
ख़ुश रहना है
ख़ुश रहना है
Monika Arora
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम हो कौन ? समझ इसे
तुम हो कौन ? समझ इसे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
Loading...