Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

शीर्षक – खामोशी

शीर्षक – ख़ामोशी
************
सच तो तेरी खामोशी भी कहती हैं।
सच तुम बस सच ही हमें रहते हैं
ख़ामोशी की अपनी एक अदा होती हैं।
बस बयां न जुबां आंखों से कहतीं हैं।
हां हां तेरी खामोशी की सोच होती हैं
हम तुम संग साथ साथ ही रहते हैं।
ख़ामोशी ही जीवन के सच कहती हैं।
हमारी सोच ही जीवन हम जीते हैं।
ख़ामोशी ही जीवन जीते हुए हम हैं।
न तेरी यादों की ख़ामोशी हम भूलते हैं।
जिंदगी गुज़र बसर बस हम सोचते हैं।
हां ख़ामोशी बस हमारे जीवन में रहती हैं।
**********************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
Yogendra Chaturwedi
#लघु कविता
#लघु कविता
*Author प्रणय प्रभात*
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बड़ी अजब है प्रीत की,
बड़ी अजब है प्रीत की,
sushil sarna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
3350.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3350.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
gurudeenverma198
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
Sanjay ' शून्य'
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
शेखर सिंह
Loading...