Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

What consumes your mind controls your life

What consumes your mind controls your life
Anxiety and anger, even separately, cause us unpleasant emotional arousal. When they overcome us at the same time, the destructive consequences can be avoided only by pulling ourselves together.

The anxiety and anger that overcome us are not only unpleasant, but can provoke rash actions that we will bitterly regret. Sometimes it’s enough just to remember that you have control over yourself. When you manage to pull yourself together, you can redirect the energy of these negative experiences to solve current problems.

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"मेरी आवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बदलाव
बदलाव
Dr. Rajeev Jain
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
Kanchan Khanna
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
ख़त आया तो यूँ लगता था,
ख़त आया तो यूँ लगता था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आत्मघाती हमला
आत्मघाती हमला
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
टीस
टीस
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तन्हाई में अपनी
तन्हाई में अपनी
हिमांशु Kulshrestha
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
*मृत्यु (सात दोहे)*
*मृत्यु (सात दोहे)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
Dr.sima
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
"" *गणतंत्र दिवस* "" ( *26 जनवरी* )
सुनीलानंद महंत
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
Loading...