Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

शिव

ईश्वर रूप में पूजे जाते
त्रिनेत्र धारी कहलाते

जटा से बहती गंगा मैया
सूखे को शीतल कर जाती

दूध , फल , धतूरा बेलपत्र
तुमको है प्यारे |

कँवरियों के तुम रखवाले
देते हो भांग के प्याले

डम-डम डमरू बजाकर
तांडव तुम कर जाते

मंथन में विष का प्याला पीकर
देवताओं की रक्षा कर जाते

जल की धारा से नहलाए जाते
रुद्राअभिषेक की प्रक्रिया कहलवाते

पक्षी बनकर नीलकंठ
भगवान तुम हो कहलाते

ॐ मंत्र के उच्चारण से
घर मंदिर को पवित्र बनाते

कैलाश पर बैठे पार्वती संग
शिवरात्रि में पूजे जाते

स्वरचित एवं मौलिक- डॉ. वैशाली.A वर्मा✍🏻😇

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
शिव प्रताप लोधी
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
🙅 अक़्ल के मारे🙅
🙅 अक़्ल के मारे🙅
*प्रणय प्रभात*
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
"यह कैसा दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
दुश्मन कहां है?
दुश्मन कहां है?
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वो
वो
Ajay Mishra
मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
Shweta Soni
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राही
राही
Neeraj Agarwal
मुझसे मेरी पहचान न छीनों...
मुझसे मेरी पहचान न छीनों...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
🌸*पगडंडी *🌸
🌸*पगडंडी *🌸
Mahima shukla
*नल (बाल कविता)*
*नल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
Loading...