Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

शिव आराध्य राम

#दिनांक:-5/5/2024
#शीर्षक:-शिव आराध्य राम ।

अखिल ब्रह्मांड नायक,
कोदण्डधारी रघु राघव,
अयोध्यापति अवधेश हैं ,
काम,क्रोध,लोभ,मोह विजेता,
अद्भुत,अद्वितीय,सरल राम अशेष हैं।
मर्यादा,करुणा,सत्य,धर्म,सदाचार,
सब है विशेषता कौशल्या-नंदन में,
हर कण में मेरे राम; ना रहा कुछ अब शेष है ।

राम से बड़ा रामनाम,
वरुणालय राघवेन्द्र सर्वस्व हैं ,
राम हैं सुखों के सागर,
भर देते अधम जीवन में भक्ति के गागर,
राम नाम ही एक सत्य है ,
भक्त हनुमान के सीने में निवास करते ,
राम युगप्रवर्तक युद्ध में निपुण, सगुण राम,
इक्ष्वाकुवंशी मनु-सपूत राम एक तथ्य हैं ।

युग-युगांतर से पवित्र,
साधु पराक्रमी धन्य नाम राम है,
श्यामल वर्ण कमलनयन पीताम्बर धारी,
आकर्षित व्यक्तित्व रहते अयोध्या धाम हैं।
जनक नन्दिनी सीता-स्वामी, करो मामुद्धार,
अहंकारी रावण को मार, फहराये धर्म विजय पताका,
मर्यादित रमित, शिव-आराध्य राम, अभिराम हैं।
(स्वरचित)

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
"अलग -थलग"
DrLakshman Jha Parimal
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
माँ
माँ
SHAMA PARVEEN
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
*प्रणय प्रभात*
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
Moin Ahmed Aazad
आँखें बतलातीं सदा ,मन की सच्ची बात ( कुंडलिया )
आँखें बतलातीं सदा ,मन की सच्ची बात ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
"ऐ मुसाफिर"
Dr. Kishan tandon kranti
Introduction
Introduction
Adha Deshwal
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नक़ली असली चेहरा
नक़ली असली चेहरा
Dr. Rajeev Jain
अपनेपन की रोशनी
अपनेपन की रोशनी
पूर्वार्थ
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Dipak Kumar "Girja"
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
राना दोहावली- तुलसी
राना दोहावली- तुलसी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...