Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

*शिवाजी का आह्वान*

शिवाजी का आह्वान
उठो शिवाजी खड़ग संभालो आन-बान अभिमान की।
मन प्राणों में रची-बसी यह धरती हिंदुस्तान की।।
आतताईयों के खंजर से धरती लहूलुहान हुई।
जकड़ बेड़ियों में सारी मानवता आज गुलाम हुई।
अंधकार की जंजीरों से मुक्ति ज्ञान -विज्ञान की।।
उठो शिवाजी खड़ग संभालो आन-बान अभिमान की।
मन प्राणों में रची-बसी यह धरती हिंदुस्तान की।।
भ्रष्टाचार बना जीवन का हिस्सा, देश पुकार रहा।
अनाचार और दुराचार दुष्टों का है उत्पात मचा।।
घोर निराशा में मानव की भीति -रीति परिताप की।
उठो शिवाजी खड़ग संभालो आन-बान अभिमान की।
मन प्राणों में रची-बसी यह धरती हिंदुस्तान की।।
ऊंच-नीच के मतभेदों से शोषित-शोणित उबल रहा।
तटबंधों की गरिमा को धूमिल जल प्लावन मचल रहा।।
नवजीवन की सुबह लिये आशाओं के बलिदान की।
उठो शिवाजी खड़ग संभालो आन-बान अभिमान की।
मन प्राणों में रची-बसी यह धरती हिंदुस्तान की।।
जीर्ण-शीर्ण बंधन पट तोड़ जगत में नव रचना होगा।
नयी सोच को धारण कर जीवन पथ पर चलना होगा।।
हर घर -घर में अलख जगाओ जन मानस के गान की।।
उठो शिवाजी खड़ग संभालो आन-बान अभिमान की।
मन प्राणों में रची-बसी यह धरती हिंदुस्तान की।।
रचनाकार – कवि अनिल कुमार

2 Likes · 377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
सच समाज में प्रवासी है
सच समाज में प्रवासी है
Dr MusafiR BaithA
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
श्याम सिंह बिष्ट
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
3084.*पूर्णिका*
3084.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
"विनती बारम्बार"
Dr. Kishan tandon kranti
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
#विश्वेश्वरैया, बोलना बड़ा मुश्किल है भैया।।😊
*Author प्रणय प्रभात*
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
सास खोल देहली फाइल
सास खोल देहली फाइल
नूरफातिमा खातून नूरी
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
मन से मन को मिलाओ सनम।
मन से मन को मिलाओ सनम।
umesh mehra
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिल तमन्ना
दिल तमन्ना
Dr fauzia Naseem shad
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
*दफ्तर में साहब और बाबू (कुछ दोहे)*
*दफ्तर में साहब और बाबू (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...