Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

शिमले दी राहें

हैं शिमले दी राहें
सुहानी अनोखी,
पहाड़ों की रानी को
जा करके देखी।
डगर कहीं सीधी
कहीं थी मरोड़ी
घिरी बादलों से
हरित शाल ओढ़ी।

वो कुफरी की मस्ती,
और जाखू की भक्ति।
करौली का बाबा,
और तारा की शक्ति।

नज़ारे वहां के
खुद ही नज़्म गायें,
सैलानी की टोली को
पल पल लुभाये।
वो झरनों की झर झर
बहुत खूब भैया,
यहां मेघ आकर के
लेते बलैया।

दुबारा मैं आऊं
नहीं कोई वादे,
मगर शिमला सुंदर
है कहते इरादे।
मैं पहली दफा
आज शिमला में आया।
पहाड़ी शहर ने
सृजन को लुभाया।

1 Like · 2 Comments · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
समाज या परिवार हो, मौजूदा परिवेश
समाज या परिवार हो, मौजूदा परिवेश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/72.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/72.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
दूर मजदूर
दूर मजदूर
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
आउट करें, गेट आउट करें
आउट करें, गेट आउट करें
Dr MusafiR BaithA
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
करने दो इजहार मुझे भी
करने दो इजहार मुझे भी
gurudeenverma198
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
"इतनी ही जिन्दगी बची"
Dr. Kishan tandon kranti
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
गुरु
गुरु
Rashmi Sanjay
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
आईना
आईना
Sûrëkhâ Rãthí
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
पूर्वार्थ
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
#दोहा (आस्था)
#दोहा (आस्था)
*Author प्रणय प्रभात*
संस्कारों को भूल रहे हैं
संस्कारों को भूल रहे हैं
VINOD CHAUHAN
Loading...