Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है

शिक्षा का मंदिर खुला हुआ है,
बुद्धि के पट बंद है जिसके,
मंगहाई और बेरोजगारी का आलम,
संगत शराब व्यसन में डूबा है,
कैसे ना रहे खाली ये विद्यालय,
जब महत्व नहीं देंगे शिक्षा का ज्यादा।

लूट मार मची है इस कदर,
धंधा बन कर ही चला है जिधर,
ज्ञान की ज्योति जलेगी कैसे?
गरीबों के घर बच्चे पढेंगे कैसे ?
आडंबर की ओर जब दौड़ लगी है,
एक और मंदिर में होड़ लगी है।

खाली पेट न भजन होना है,
बिना शिक्षा के घर-घर में रोना है,
बुद्धि भ्रस्ट हुई शिक्षा बिन ,
तर्क शील फिर कैसे बनना है?
लाइन लगेगी मूर्खो की फिर,
विश्व गुरु का ये कहना है।

शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है,
देनी है सबको विकास यादि पाना है,
द्वार खुले रखो बंद ना करो विद्यालय,
भविष्य इस पर निर्भर है आगे,
पुर जोर से अलख जलाओ हर घर मे,
आओ विद्यालय, पढ़ाओ सबको।

1 Like · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
Er. Sanjay Shrivastava
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
मन की पीड़ाओं का साथ निभाए कौन
मन की पीड़ाओं का साथ निभाए कौन
Shweta Soni
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2. *मेरी-इच्छा*
2. *मेरी-इच्छा*
Dr Shweta sood
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
"गम"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
Neeraj Agarwal
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
..........?
..........?
शेखर सिंह
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चील .....
चील .....
sushil sarna
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
23/04.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/04.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दरकती ज़मीं
दरकती ज़मीं
Namita Gupta
Loading...