Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

शांति अमृत

शांति अमृत की धारा है,
धारण करें जो वह प्यारा है।
शांति से एक पल में बात बने,
सुखी मार्ग जीवन में ढले।।…(१)

शांति मन में ही होती है,
सुगन्धित करती है हृदय को सदा।
शांति मन से कार्य जो बने,
प्रफुल्लित करती है औरोंं को सदा।।….(२)

शांति जहांँ है हिंसा न बसा,
अहिंसा शांति का मूल है।
शांति से जो पथ है बना,
करुणा अहिंसा से है भरा।।….(३)

शांति क्रोध का विनाश है,
जल से बुझे जैसे आग है।
शांति मिले न जिसको,
क्रोध से होता खाक है।।….(४)

शांति शांति जो कहे,
ऐसे न मिले कहीं शांति।
शांति अपने अंदर की उपज है,
अंदर मन में जो ढूंढें सो पाये।।…..(५)

रचनाकार ✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश
मौदहा
हमीरपुर।

4 Likes · 219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
#सामयिक_रचना
#सामयिक_रचना
*Author प्रणय प्रभात*
2749. *पूर्णिका*
2749. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
हार स्वीकार कर
हार स्वीकार कर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
भक्त कवि श्रीजयदेव
भक्त कवि श्रीजयदेव
Pravesh Shinde
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
*वही एक सब पर मोबाइल, सबको समय बताता है (हिंदी गजल)*
*वही एक सब पर मोबाइल, सबको समय बताता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दिन भर रोशनी बिखेरता है सूरज
दिन भर रोशनी बिखेरता है सूरज
कवि दीपक बवेजा
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
मिसाल उन्हीं की बनती है,
मिसाल उन्हीं की बनती है,
Dr. Man Mohan Krishna
वक्त से वकालत तक
वक्त से वकालत तक
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
डॉ० रोहित कौशिक
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
कविता
कविता
Rambali Mishra
71
71
Aruna Dogra Sharma
Loading...