Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

शलभ से

भोले शलभ! अब तुम मचलना छोड़ दो।
दीप पर क्या असर अब जलना छोड़ दो।
क्यूं विवश हो पहुॅंच जाते उसके द्वार ?
क्या दबा सकते नहीं मन की मनुहार ?
मन पर अब ऐतबार करना छोड़ दो।
भोले शलभ! अब तुम मचलना छोड़ दो।
जीत की चाह नहीं गले लगाते हार ?
क्यूं गूंथते हो तुम‌ प्रीत का यह तार ?
ऑंसूओं में गम बहाना छोड़ दो।
भोले शलभ! अब तुम मचलना छोड़ दो।
दीपक जल करता जग-तम का संहार।
पर शलभ! तेरा जलना लगता निस्सार।
तुम व्यर्थ ही अग्नि में दहना छोड़ दो।
भोले शलभ! अब तुम मचलना छोड़ दो।
समझा ना अब तक वह तेरे उद्गार।
फिर क्यूं सजाते हो भावों का संसार ?
स्वर्णिम स्वप्न-महल बनाना छोड़ दो।
भोले शलभ! अब तुम मचलना छोड़ दो।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर(राजस्थान)

Language: Hindi
1 Like · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
It’s all a process. Nothing is built or grown in a day.
It’s all a process. Nothing is built or grown in a day.
पूर्वार्थ
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
कुशादा
कुशादा
Mamta Rani
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
Ravi Prakash
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
💐प्रेम कौतुक-471💐
💐प्रेम कौतुक-471💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
🙅अजब संयोग🙅
🙅अजब संयोग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
" वर्ष 2023 ,बालीवुड के लिए सफ़लता की नयी इबारत लिखेगा "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
2875.*पूर्णिका*
2875.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
"सिक्का"
Dr. Kishan tandon kranti
मूर्दों का देश
मूर्दों का देश
Shekhar Chandra Mitra
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुनहगार तू भी है...
गुनहगार तू भी है...
मनोज कर्ण
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
Loading...