Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

* शरारा *

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* शरारा *

अरमानों को जला कर जो चले जातें हैं
तनहाइयों में अक्सर वे ही बहुत याद आतें हैं ||
युं तो यादें कहाँ छोड्ती हैं पीछा कभी हमारा
तिल तिल सुलगता रह्ता है गुलिस्तां ये दर्द का मारा ||
तोते सा पालतें हैं ख्वाबों सा ढालतें हैं उन पलों को सब
रोते हैं याद करके वो वक्त जो साथ था गुजारा ||
उम्मीद कहाँ छुटती होगी यारों बताओ तुम ही
बचपन की मोहब्बत का जिसने भी देखा हो वक्त प्यारा ||
मासूमियत *अबोध * की के संजों न पाया उस गुलाब को
खुदा के फजल से जो खिला था किस्मत का वो शरारा ||

1 Like · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सत्य दीप जलता हुआ,
सत्य दीप जलता हुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
सीरत
सीरत
Shutisha Rajput
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
gurudeenverma198
* चांद के उस पार *
* चांद के उस पार *
surenderpal vaidya
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
2991.*पूर्णिका*
2991.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होली गीत
होली गीत
Kanchan Khanna
माना कि दुनिया बहुत बुरी है
माना कि दुनिया बहुत बुरी है
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्रत्युत्पन्न मति"
*Author प्रणय प्रभात*
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
तंग अंग  देख कर मन मलंग हो गया
तंग अंग देख कर मन मलंग हो गया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
Loading...