Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

शरद पूर्णिमा

शरद पूर्णिमा

अश्विन मास शुक्ल पक्ष शरद पूर्णिमा,
कोजागरी , कौमुदी , रास महोत्सव मनाना ।
गौ , क्षीर , खीर चन्द्रप्रभा रश्मि अमृत मिलना ।।

षोडश कलाओं युक्त औषधीश ,
कलाधर चंद्रकला अमृतयुक्त ।
अस्थमा व्याधियों करना मुक्त ।।

ऋतु आनंद उत्सव रचती हैं ।
प्रकृति हर्ष उल्लास का रास मनाती हैं ।

मध्य चरण माँ लक्ष्मी विचरण करती ।
जाग रहा उसे आरोग्यदायक तन-मन-धन देती ।।

Language: Hindi
1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
Anand Kumar
हमराही
हमराही
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
Anil Kumar
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
..
..
*प्रणय प्रभात*
मेरे पास फ़ुरसत ही नहीं है.... नफरत करने की..
मेरे पास फ़ुरसत ही नहीं है.... नफरत करने की..
shabina. Naaz
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"वक्त की औकात"
Ekta chitrangini
2608.पूर्णिका
2608.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मैंने, निज मत का दान किया;
मैंने, निज मत का दान किया;
पंकज कुमार कर्ण
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
Ranjeet kumar patre
बार -बार दिल हुस्न की ,
बार -बार दिल हुस्न की ,
sushil sarna
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
Loading...