Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

शब्द

शब्द
कभी कभी शब्दों से भी मार पड़ जाती है
कभी कभी शब्दों से भी राड बढ़ जाती है
कभी कभी शब्दों से भी बाढ़ बन जाती है
कभी कभी शब्दों से भी बात बन जाती हैं…..
इसलिए
शब्दों को मगज धरते सोचना चाहिए
बोलने से पहले शब्दों को तोलना चाहिए
क्या सही क्या गलत है शब्द जरा! आकंना चाहिए
समय परिस्थिति हाल को देख! शब्द बोलना चाहिए..
वरना
शब्द ही शब्द को ले बैठते हैं
कहीं सुख तो कहीं दुख देतें है
अपनी पहचान के हो शब्द तो ठीक है
वरना अपने ही शब्द!अपनी जुबां काट देते हैं..
इसलिए ध्यान रखें
तोल मोल के फिर शब्द बोल
समझ पडे ना! न मगज खोल
आवभगत में न वो शब्द जोड़
जो भारी पडे मन पे उसे देखकर मुह मोड़….
क्योंकि
शब्दों की भी अपनी एक परिसीमा होती हैं
रहगुज़र वो देख लकिरों पें अक्स खींचती है
नजरियाँ अपना क्या भापंता है उसे मालुम नहीं
वो तो बस शब्दों में गुथी एक हालात परिभाषा होतीं हैं
इसलिए समझों
हर एक शब्द का एक अहम रोल होता है
हालातों को देख वो भुमिका बदलता है
जो वक्त रहते शब्दांश हस्ती!करवटें लेता है
समझना है शब्दों का फैर ये ,तो दिलोदिमाग एक करना होता है…..
आपका अपना ही शब्द है जिसे समझना है आपको
जो हैं इर्दगिर्द तुम्हारें शब्द!उन्हें फिर से सुलझ के जानो
बस जरा सा आंख बंद कर चिंता नहीं तूम चिंतन करों
तब देखना!सब सहज हो जायेगा ये जानकर,उस शब्द का माजरा ऐसा क्यों…..
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उस रात .....
उस रात .....
sushil sarna
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पर्यावरण संरक्षण*
पर्यावरण संरक्षण*
Madhu Shah
जहाँ में किसी का सहारा न था
जहाँ में किसी का सहारा न था
Anis Shah
*** बिंदु और परिधि....!!! ***
*** बिंदु और परिधि....!!! ***
VEDANTA PATEL
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोस्ती....
दोस्ती....
Harminder Kaur
3125.*पूर्णिका*
3125.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदमी का मानसिक तनाव  इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
पूर्वार्थ
एक सोच
एक सोच
Neeraj Agarwal
जीवन को नया
जीवन को नया
भरत कुमार सोलंकी
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
☝️      कर्म ही श्रेष्ठ है!
☝️ कर्म ही श्रेष्ठ है!
Sunny kumar
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
चन्द्रयान-3
चन्द्रयान-3
कार्तिक नितिन शर्मा
■ मारे गए गुलफ़ाम क़सम से मारे गए गुलफ़ाम😊
■ मारे गए गुलफ़ाम क़सम से मारे गए गुलफ़ाम😊
*प्रणय प्रभात*
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
शेखर सिंह
Loading...