Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

शब्दों को बतियाते देखा….

(गीतिका)
******************************
*
शब्दों को बतियाते देखा,
सारा जग हथियाते देखा ।
*
स्नेह सुरों की बलि दे डाली,
कर्कश बन चिचियाते देखा ।
*
खूब ठहाके भरते थे जो,
आज उन्हें खिसियाते देखा ।
*
सिंहनाद वाली गर्जन को,
पल भर में मिमियाते देखा ।
*
पहले पुचकारा जी भर कर ,
फिर सबको लतियाते देखा ।
******************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ, (उ॰प्र॰)
******************************

1 Comment · 151 Views
You may also like:
सच एक दिन
gurudeenverma198
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
मजहबे इस्लाम नही सिखाता।
Taj Mohammad
एक प्रश्न
Aditya Prakash
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
तेरा प्यार।
Taj Mohammad
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️एक ख़ता✍️
"अशांत" शेखर
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
अनामिका सिंह
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
धरती की फरियाद
अनामिका सिंह
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
Loading...