Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

शक्तिशालिनी

तेरी चूड़ियां बोलती है जितनी
काश ! उतना तुम बोल पाती ।

तुम लट सुलझाती हो जितनी
काश ! उतनी खुद सुलझ पाती ।

लक्ष्मीरूप तुम्हें ये दुनिया बताती
क्यों न दुर्गा तुम स्वयं बन जाती ।

बिना किसी सुरक्षा के भरोसे
अपनी रक्षा तो स्वयं कर पाती ।

तुम रूई के फाहे सी कोमल
आखिर क्यों दब जाती इतनी ?

तुम भी बराबरी के लिए हो
नही दबने के लिए हो बनी ।

एक जान बचाने के सवाल में
बचा सकती जान हरहाल में ।

ना चाहो पूजी जाए देवीमाता
चाहे तुम बस नारी अस्मिता ।

तुम तो प्रेम,सम्मान की प्यासी
ना चाहे बने महारानी ना दासी ।

जग की सतत् संतति पालनी हो
वो तुम्ही शक्ति शक्तिशालिनी हो ।

तुम हो धैर्य धरती धरती के जैसे
कष्ट सह लेती हो तुम कैसे-कैसे ।

तुम परी परिपूर्ण शक्ति सबला
आश्रय,आरक्षण क्या करेंगे भला ।

अब अपनी शक्ति रही हो पहचान
नित बना रही नये-नये कीर्तिमान ।
~०~
मौलिक एवं स्वरचित :रचना संख्या- ०९
जीवनसवारो,मई २०२३.

Language: Hindi
255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उस जैसा मोती पूरे समन्दर में नही है
उस जैसा मोती पूरे समन्दर में नही है
शेखर सिंह
इशारा नहीं होता
इशारा नहीं होता
Neelam Sharma
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
Munish Bhatia
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"शहनाई की गूंज"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ रात्रि मित्रों
शुभ रात्रि मित्रों
आर.एस. 'प्रीतम'
🙅अजब संयोग🙅
🙅अजब संयोग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
Er. Sanjay Shrivastava
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
Loading...