Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

व्यवहार……….

व्यवहार……….

निरन्तर गति को लय दे चल रे प्राणी
बिन लय के शशक नहीं विजय पाते है
बाहुल्य के प्रभाव में दुर्जन हुंकार भरे
सज्जन तो व्यवहार से पहचाने जाते है
बूँद – बूँद से तृप्त हो जाते है पुष्प वृक्ष
प्रबल वेग धारा से किनारे बह जाते है
संयम से काम लेना पहचान ज्ञानी की
उग्र स्वभाव धारण कर शैतान कहलाते है
मंद फुहारों से ही बनता वर्षा का आकर्षण
मेघ फटने से तो शिला भी बह हो जाते है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ ——————-@

2 Comments · 199 Views
You may also like:
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
लत...
Sapna K S
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
अनोखी सीख
DESH RAJ
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
फरियाद
Anamika Singh
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H. Amin
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
नमन!
Shriyansh Gupta
हे गुरू।
Anamika Singh
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
Loading...