Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2016 · 1 min read

व्यथा पेड़ की

एक पेड़ था सुंदर वन में जिस पर था उल्लू का डेरा ।
इसी वजह से कोई पक्षी नहीँ लगाता पेड़ का फेरा ॥
दुःखी बहुत था पेड़ सोचकर किसको अपनी व्यथा सुनाएं ।
बने सभी का आश्रय वो भी ऐसा कुछ वो क्या कर पाये ॥
हार गया वो सब कुछ कर के अब उसने मरने की ठानी ।
छोड़ दिया अब उसने खाना छोड़ दिया अब उसने पानी ॥
कुछी दिनो में सूख गया वो नहीँ बैठते उल्लू उस पर ।
मन ही मन वो खुश होता था उल्लू नहीँ बैठते मुझ पर ॥
एक दिन एक लकड़हारे की नज़र पड़ी जब सूखे पेड़ पर ।
काटा पेड़ बना दी कुर्सी अच्छी अच्छी सुंदर सुंदर ॥
सभी कुर्सियां पहुँची संसद और बनी संसद की शोभा ।
विजय बताये व्यथा पेड़ कि सुनकर पेड़ बहुत है रोता ॥
जान गँवाई जिसके कारण वही आज भी मुझपर बैठा ।
जान गंवाई जिसके कारण वही आज भी मुझ पर बैठा ॥

विजय बिज़नोरी

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अलगौझा
अलगौझा
भवानी सिंह धानका "भूधर"
// होली में ......
// होली में ......
Chinta netam " मन "
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
प्लेटफॉर्म
प्लेटफॉर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पौष की सर्दी/
पौष की सर्दी/
जगदीश शर्मा सहज
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
नाचे सितारे
नाचे सितारे
Surinder blackpen
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
Srishty Bansal
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
*घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ(गीत)*
*घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ(गीत)*
Ravi Prakash
सबक
सबक
manjula chauhan
Loading...