Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

व्यंग्य क्षणिकाएं

क्षणिकाएं
इन आँसुओं को
कौन समझाए
अब ये टपकते नहीं
सूखते हैं…..
जब रोती भी हैं आंख
रुमाल भीगता नहीं।
2
बहुत दिन से उनकी
खैर खबर नहींं मिली
अब खबरों में खैर
कहां रही।
3
इतना क्यों लिखते हो
जो उपमाएं देते हो…
दिखाई तो नहीं देती
4
पैरों से पायल गई
माथे से बिंदी…
मांग से सिंदूर…
फिर भी कहते हो
कुछ नहीं बदला।
5.
उमड़ते हैं भाव तो
कह देता हूं…
तुम भी यही कर रहे हो
मैं भी यही कर रहा हूं।
शब्द यात्रा।
सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
मेरा प्रदेश
मेरा प्रदेश
Er. Sanjay Shrivastava
जीत
जीत
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
धमकियाँ देना काम है उनका,
धमकियाँ देना काम है उनका,
Dr. Man Mohan Krishna
"दोस्ती के लम्हे"
Ekta chitrangini
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
Micro poem ...
Micro poem ...
sushil sarna
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
"मौन"
Dr. Kishan tandon kranti
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
हुनर है मुझमें
हुनर है मुझमें
Satish Srijan
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*Author प्रणय प्रभात*
गाँधी हमेशा जिंदा है
गाँधी हमेशा जिंदा है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कलयुग और महाभारत
कलयुग और महाभारत
Atul "Krishn"
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
Loading...