Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-299💐

वो ही कहें ये सब फ़साना है,
हमें बस दिल उनसे लगाना है।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Hero of your parents 🦸
Hero of your parents 🦸
ASHISH KUMAR SINGH
जीवन-गीत
जीवन-गीत
Dr. Kishan tandon kranti
■ जीवन दर्शन...
■ जीवन दर्शन...
*Author प्रणय प्रभात*
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नाविक तू घबराता क्यों है
नाविक तू घबराता क्यों है
Satish Srijan
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
जैसे
जैसे
Rashmi Mishra
"बन्दगी" हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुझमें वह कशिश है
तुझमें वह कशिश है
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उससे दिल मत लगाना जिससे तुम्हारा दिल लगे
उससे दिल मत लगाना जिससे तुम्हारा दिल लगे
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-448💐
💐प्रेम कौतुक-448💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2281.पूर्णिका
2281.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा मुसाफिर
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्या मैं थी
क्या मैं थी
Surinder blackpen
तेरे नाम की
तेरे नाम की
Dr fauzia Naseem shad
* रामचरितमानस का पाठ*
* रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
#आलिंगनदिवस
#आलिंगनदिवस
सत्य कुमार प्रेमी
समय पर संकल्प करना...
समय पर संकल्प करना...
Manoj Kushwaha PS
मैं पिता हूं।
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
मातृदिवस
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
संसद बनी पागलखाना
संसद बनी पागलखाना
Shekhar Chandra Mitra
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
Loading...