Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

“वो बुड़ा खेत”

“वो बुड़ा खेत”
पिता के हैं ये खेत
पिता कहते हैं
उनके पिता के हैं ये खेत
न जाने कितने दादाओं
और परदादाओं के हैं ये खेत,
गॉंव के सबसे अच्छे
खेतों में से एक
वो बुड़ा खेत।

1 Like · 1 Comment · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
Sonam Puneet Dubey
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
प्रेम के जीत।
प्रेम के जीत।
Acharya Rama Nand Mandal
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
"प्यार का सफ़र" (सवैया छंद काव्य)
Pushpraj Anant
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*प्रणय प्रभात*
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
Manisha Manjari
दोहा
दोहा
sushil sarna
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
हृदय में वेदना इतनी कि अब हम सह नहीं सकते
हृदय में वेदना इतनी कि अब हम सह नहीं सकते
हरवंश हृदय
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
Ravi Prakash
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
रंग बिरंगी दुनिया में हम सभी जीते हैं।
Neeraj Agarwal
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...