Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

“वो दिन”

“वो दिन”
लगता आएगा वो दिन भी
जब उड़ती हुई धूल
आँखों में छा जाएगी,
सारी नदियाँ तो केवल
शिला-पट पर रह जाएगी।

1 Like · 1 Comment · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
शब्दों का महत्त्व
शब्दों का महत्त्व
SURYA PRAKASH SHARMA
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
देश जल रहा है
देश जल रहा है
gurudeenverma198
◆ आज का दोहा।
◆ आज का दोहा।
*प्रणय प्रभात*
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
गर्मी और नानी का घर
गर्मी और नानी का घर
कुमार
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
“ भाषा की मृदुलता ”
“ भाषा की मृदुलता ”
DrLakshman Jha Parimal
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बातें करते प्यार की,
बातें करते प्यार की,
sushil sarna
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
"जानलेवा"
Dr. Kishan tandon kranti
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
3555.💐 *पूर्णिका* 💐
3555.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
Loading...