Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-369💐

वो तौसीक़^ किए थे दिमाग़ से पागल हूँ मैं,
चुप रहा कहता रहा,हाँ सच है पागल हूँ मैं,
पाग़ल को भी फिर से बे-एतिबार कहे क्यों,
यह सोच सोचकर,सुनो कामिल* पागल हूँ मैं।
^प्रमाणित *पूरा
©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
67 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कविता - नदी का वजूद
कविता - नदी का वजूद
Akib Javed
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
श्याम सिंह बिष्ट
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
Vijay kannauje
माता  रानी  का लगा, है सुंदर  दरबार।
माता रानी का लगा, है सुंदर दरबार।
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
रिसते हुए घाव
रिसते हुए घाव
Shekhar Chandra Mitra
छोटे-मोटे मौक़ों पर
छोटे-मोटे मौक़ों पर
*Author प्रणय प्रभात*
=*तुम अन्न-दाता हो*=
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
मैं हूँ ना
मैं हूँ ना
gurudeenverma198
हृदय की कसक
हृदय की कसक
Dr. Rajiv
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
पिछली सदी का शख्स
पिछली सदी का शख्स
Satish Srijan
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
सवाल में ज़िन्दगी के आयाम नए वो दिखाते हैं, और जवाब में वैराग्य की राह में हमें भटकाते हैं।
सवाल में ज़िन्दगी के आयाम नए वो दिखाते हैं, और जवाब में वैराग्य की राह में हमें भटकाते हैं।
Manisha Manjari
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
Taran Verma
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
कि मुझे सबसे बहुत दूर ले जाएगा,
कि मुझे सबसे बहुत दूर ले जाएगा,
Deepesh सहल
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
🌸Prodigy Love-48🌸
🌸Prodigy Love-48🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
'अशांत' शेखर
माँ की याद आती है ?
माँ की याद आती है ?
Tarun Prasad
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
इश्क़ के समंदर में
इश्क़ के समंदर में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
Surinder blackpen
*निर्धनता ( कुंडलिया )*
*निर्धनता ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
Loading...