Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 2 min read

वो क्या था

वो क्या था

बचपन में
जब पिता जी ने
अपने कंधे पर बिठा कर
मेला घुमाया था
तब मुझे नही पता था
वो क्या था

थोड़ा बड़ा हुआ तो
गोद में उठा कर
स्कूल तक लाये थे
मुझे अकेला छोड़ कर
वापस चले गए थे
तब मुझे नही पता था
वो क्या था

एक खिलोने की ज़िद करके
जब मैं रोया था
दोपहर की गर्मी में
पसीने से लथपथ
बाजार जाकर खिलोना लाए थे
तब मुझे नही पता था
वो क्या था

हर त्योहार पर
नए कपड़े सिलवाना
सबके लिए मिठाई
और तोहफे लाना
खुद वही पुराने कपड़े पहनना
तब मुझे नही पता था
वो क्या था

स्कूल से निकल कर
कॉलेज में जाना
कॉलेज का दूर होना
कॉलेज जाने के लिए मुझे
नई साईकल दिलाना
तब मुझे नही पता था
वो क्या था

कॉलेज में दोस्तों के संग
कैंटीन में चाय समोसे खाना
दोस्तों की फरमाइश पूरी करने को
पिता जी से पैसे मांगना
कुछ भी मुझसे पूछे बिना
जेब से सारे पैसे निकाल कर दे देना
तब मुझे नही पता था
वो क्या था

आज जब पढ़ लिख कर
एक कामयाब इंसान बन गया
इस कामयाबी के पीछे
छिपा किसी का दर्द
किसी का प्यार
सब समझ में आ रहा है

तब जिसने अपना सब कुछ
मुझे कामयाब बनाने में लगा दिया
आज भी वही पुराना कुर्ता पहने
पिता जी ने सीने से लगा लिया

पिता जी का चेहरा
और उनका वो पुराना कुर्ता
खुशी से चमक रहे थे
हम दोनों की आँखो से
खुशी के आंसू बह रहे थे

आज वो सब कुछ समझ आ गया था
आज मुझे पता चल गया था
तब का वो सब क्या था
वो उनकी आँखों का सपना था
जो आज पूरा हो गया था

Language: Hindi
313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
औरत
औरत
Shweta Soni
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
उसका-मेरा साथ सुहाना....
उसका-मेरा साथ सुहाना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐अज्ञात के प्रति-145💐
💐अज्ञात के प्रति-145💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
"ए एड़ी न होती"
Dr. Kishan tandon kranti
।।  अपनी ही कीमत।।
।। अपनी ही कीमत।।
Madhu Mundhra Mull
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शिक्षा एवं धर्म
शिक्षा एवं धर्म
Abhineet Mittal
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
2889.*पूर्णिका*
2889.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां - स्नेहपुष्प
मां - स्नेहपुष्प
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
गुलामी छोड़ दअ
गुलामी छोड़ दअ
Shekhar Chandra Mitra
Loading...