Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

वो ऊनी मफलर

सर्दी के हैं ये कुछ महीने
कस्तूरी की खुश्बू , मेरे साथ होती है
पूछते हैं कुछ लोग, कुछ अटकलों में
रहते हैं उलझे- उलझे

उन्हें क्या पता है वो ना हो के भी
मेरे पास होती है मेरे साथ होती हैं

सर्दियां जब भी शुरू होती हैं
इंतज़ार के वो कुछ महीने
गर्मी का अभिशाप तोड़ कर
बंद पड़ी बक्से से बाहर निकल
वो ऊनी मफलर
झट से गले से लिपट जाती है

90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
मेरी सोच~
मेरी सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Sakshi Tripathi
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अक्सर मां-बाप
अक्सर मां-बाप
Indu Singh
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
*कौन है ये अबोध बालक*
*कौन है ये अबोध बालक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*झूला सावन मस्तियॉं, काले मेघ फुहार (कुंडलिया)*
*झूला सावन मस्तियॉं, काले मेघ फुहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
सत्य कुमार प्रेमी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
मेरी मोहब्बत का चाँद
मेरी मोहब्बत का चाँद
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ये कटेगा
ये कटेगा
शेखर सिंह
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
फैसला
फैसला
Dr. Kishan tandon kranti
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रश्न –उत्तर
प्रश्न –उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
Loading...