Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

वैशाख का महीना

वैशाख का महीना है,
बादल पसीने से निचुड़ रहा हैं,
धरती पिघल रही है,
आम चूसने का मन कर रहा है ।

ये चीकू ये अंगूर और अनार सब रस से भरे है,
छूकर देखो तो सब मखमल से बने है,
तरबूज अंदर से सुर्ख़ लाल हो रहा है,
सूखा गला गीला करने का दिल कर रहा है ।

चेहरे का मेकअप अब उतरने लगा है,
पतक्षण भी अब निकलने लगा है,
कोयल की कू कू बसंत में आने लगी है,
कोई नया फूल तोड़ने का दिल कर रहा है ।

फूस की बंद अंगड़ाइयाँ अब खुलने लगी है,
शर्दी की चिपकी बूंदे अब अलग होने लगी है,
खीरे ककड़ी लौकी करेला सब दिखाई दे रहे हैं,
लीची को छीलकर खाने का दिल कर रहा है ।

अब जमीन की भी प्यास बढ़ने लगी है,
हर जगह दरारें दिखने लगी हैं,
अब पंखों से काम चल नहीं रहा है,
एसी में कंबल ओढ़कर सोने का दिल कर रहा है ।

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
Shweta Soni
हर तरफ खामोशी क्यों है
हर तरफ खामोशी क्यों है
VINOD CHAUHAN
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
सपनों का अन्त
सपनों का अन्त
Dr. Kishan tandon kranti
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2840.*पूर्णिका*
2840.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*प्रणय प्रभात*
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
Neelam Sharma
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
Rj Anand Prajapati
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
रोटी की क़ीमत!
रोटी की क़ीमत!
कविता झा ‘गीत’
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
Manoj Mahato
संवेदना बोलती आँखों से 🙏
संवेदना बोलती आँखों से 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...