Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 2 min read

“वेश्या का धर्म”

पाटलिपुत्र के चक्रवर्ती सम्राट अशोक की अनूठी कहानी थी,
नगरवधू विंदुमती एक वेश्या की कहानी थी।

जो दोनों के बीच की,
एक घटना थी,
बात हल्की नही,
बड़ी गहरी थी।

पाटलिपुत्र में अशोक गंगा के, किनारे खड़ा था,
भयंकर बाढ़ आई थी, भयभीत वो खड़ा था।

मन ही मन सोच रहा था क्या गँगा उल्टी बह सकती है,
कि गंगा अपने स्रोत की ओर मुड़ सकती है।

तभी वेश्या अशोक के पास आ गई,
उसने कहा आदेश करें, और हँसने लग गई।

वेश्या बोली हाँ मैं उल्टी गंगा बहा सकती हूं,
अशोक चौंका, कौन सी कला है, जो ऐसा कर सकती हो।

उसने कहा मेरी निजता का सत्य,
मेरे जीवन का सामर्थ्य और सत्य,
आँखे बंद कर जपने लगी,
सम्राट खड़ा था गंगा उल्टी बहने लगी।

सम्राट वेश्या के, चरणों मे गिर पड़ा,
क्या वेश्या का भी कोई धर्म है भला।

तू शरीर बेंच रही है, सौंदर्य बेंच रही है,
इससे घटिया कोई व्यवसाय हैं नही।

विंदुमति बोली मेरी शिक्षा में गुरु से यही मिला,
केवल एक सूत्र, मोक्ष के लिए मिला।

चाहे धनी आये,
चाहे गरीब आये,
चाहे शुद्र आये,
चाहे ब्रह्मण आये।

चाहे सुंदर पुरूष आये,
चाहे कुरूप आये,
चाहे जवान आये,
चाहे रूग्ण आये।

समभाव रखा, किसी से ना द्वेषः किया, ना आसक्ति किया,
ना लगाव दिखाया, ना मोह किया,
ना खुश हुई, ना दुख प्रकट किया।

अपना जीवन कर दिया,
दूसरों पर समर्पित,
वेश्या भी नारी है,
हुई जो असीमित।

पुरुष प्रेम भी शर्तों पर करता है,
जबकि प्रेम बंधन नही मुक्ति है,
कौन कहता है वेश्या का धर्म नही,
एक नारी मैं भी हुँ, मुझमे क्या मर्म नही।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव✍️
प्रयागराज

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अनुभव
अनुभव
Sanjay ' शून्य'
**पी कर  मय महका कोरा मन***
**पी कर मय महका कोरा मन***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
"लड़कर जीना"
Dr. Kishan tandon kranti
■ चुनावी साल के अहम सवाल। पूछे तरुणाई!!
■ चुनावी साल के अहम सवाल। पूछे तरुणाई!!
*Author प्रणय प्रभात*
#राम-राम जी..👏👏
#राम-राम जी..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
दिल से दिल को जोड़, प्रीति रंग गाती होली
दिल से दिल को जोड़, प्रीति रंग गाती होली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
फागुनी है हवा
फागुनी है हवा
surenderpal vaidya
वाह ! डायबिटीज हो गई (हास्य व्यंग्य)
वाह ! डायबिटीज हो गई (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
2812. *पूर्णिका*
2812. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
कविता
कविता
Shyam Pandey
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक- 292💐
💐प्रेम कौतुक- 292💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...