Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

विश्व कविता दिवस

आज का दिन संसार में सारे, विश्व कविता दिवस रूप में मनाया जाता है।
कविताओं के माध्यम से ही तो, संसार को यह बतलाया जाता है।।
21 मार्च 99 को पेरिस के सम्मेलन से ही तो इसकी सबसे पहले बात हुई।
कविता के साहित्य रूप में परिभाषित करने की शुरुआत हुई।।
आज के दिन शब्दों की सुंदरता का अभूतपूर्व जश्न मनाया जाता है।
रूपक और कल्पना की शक्ति से मानव, स्तिथि को समझाया जाता है।।
मानव अस्तित्व की दुविधा,विचार और निवारण का स्रोत है कविता।
कवियों की प्रेरणा उत्साह और सम्मानित करने का भी आधार है कविता।।
भारत की बाईस भाषाओं में कवियों के द्वारा लिखी गईं कविताएं पाई जाती हैं।
और हिन्दी में लिखी कविताएं विश्व के सभी देशों में अपनाई जाती हैं।।
कहे विजय बिजनौरी देश विदेश के कवियों को यह त्योहार मनाना चाहिए।
सारे विश्व में कविता पाठ करके कवियों की प्रतिष्ठा को फैलाना चाहिए।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
आप सच बताइयेगा
आप सच बताइयेगा
शेखर सिंह
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
Rj Anand Prajapati
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
हर-सम्त शोर है बरपा,
हर-सम्त शोर है बरपा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
बचकानी बातें करने वाले बुज़ुर्गों की इमेज उन छोरों ज
बचकानी बातें करने वाले बुज़ुर्गों की इमेज उन छोरों ज
*Author प्रणय प्रभात*
Education
Education
Mangilal 713
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
ललकार
ललकार
Shekhar Chandra Mitra
आप नौसेखिए ही रहेंगे
आप नौसेखिए ही रहेंगे
Lakhan Yadav
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अध्याय 6*
*अध्याय 6*
Ravi Prakash
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
फ़ितरत
फ़ितरत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
-- नफरत है तो है --
-- नफरत है तो है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फ़ितरत-ए-साँप
फ़ितरत-ए-साँप
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
माॅ
माॅ
Santosh Shrivastava
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
shabina. Naaz
मीत की प्रतीक्षा -
मीत की प्रतीक्षा -
Seema Garg
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
Loading...