Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

“विडम्बना”

“विडम्बना”
चाहे कुछ भी हो जाए
मगर दुनिया को
श्रम-कण से सींचने वाले
कभी ईश्वर नहीं बन पाएंगे,
और सारे लूटने वाले
ईश्वर बनकर
सब कुछ हड़प ले जाएंगे।
– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

5 Likes · 2 Comments · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
विशुद्ध व्याकरणीय
विशुद्ध व्याकरणीय
*Author प्रणय प्रभात*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
2997.*पूर्णिका*
2997.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
Ravi Prakash
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
Manoj Mahato
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*ताना कंटक एक समान*
*ताना कंटक एक समान*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
"रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी"
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ऐ मेरे बचपन तू सुन"
Dr. Kishan tandon kranti
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
दोस्ती क्या है
दोस्ती क्या है
VINOD CHAUHAN
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
Loading...