Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

विजय पर्व है दशहरा

विजय पर्व है दशहरा, खुशियों का त्यौहार।
जीत धर्म की है सदा, जाता अधर्म हार।।

जिसने भाई से रखा, सदा कपट का जाल।
ऐसे जन का जानिए, रावण जैसा हाल।।

मन मैला मत कीजिए, मन में बसते राम।
प्रेम स्नेह सबसे रखें, भजिए ईश्वर नाम।।

घड़ा पाप का जब भरे, जाता फिर वह फूट।
लाख यत्न फिर किजिए , सांसे जाती छूट।।

देखों रावण का दहन, जगह जगह है आज।
सदियों से सब कर रहें, यह शुभ मंगल काज।।

अहंकार का कीजिए, आज अभी से
त्याग।
अपने मन को किजिए, अब निर्मल बेदाग।।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
■ मंगलकामनाएं
■ मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
Re: !! तेरी ये आंखें !!
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
!!! नानी जी !!!
!!! नानी जी !!!
जगदीश लववंशी
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
They say,
They say, "Being in a relationship distracts you from your c
पूर्वार्थ
मन
मन
Neelam Sharma
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
ଆମ ଘରର ଅଗଣା
ଆମ ଘରର ଅଗଣା
Bidyadhar Mantry
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हार का पहना हार
हार का पहना हार
Sandeep Pande
हमसफर
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
माँ : तेरी आंचल में.....!
माँ : तेरी आंचल में.....!
VEDANTA PATEL
यादें
यादें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...