Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

“विकल्प रहित”

“विकल्प रहित”
दुनिया में हर चीज़ का विकल्प है, किन्तु आपके स्वयं का नहीं।

2 Likes · 2 Comments · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
Phool gufran
😊
😊
*Author प्रणय प्रभात*
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
ग़ज़ल(उनकी नज़रों से ख़ुद को बचाना पड़ा)
डॉक्टर रागिनी
2663.*पूर्णिका*
2663.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
माँ
माँ
Vijay kumar Pandey
क्या छिपा रहे हो
क्या छिपा रहे हो
Ritu Asooja
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
" मँगलमय नव-वर्ष-2024 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नरक और स्वर्ग
नरक और स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
दूरदर्शिता~
दूरदर्शिता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"नींद से जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...