Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

I lose myself in your love,

I lose myself in your love,
I become like a firefly in your eyes.
My love is only for you,
Without you, life feels incomplete.

2 Likes · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन हो अगर उदास
मन हो अगर उदास
कवि दीपक बवेजा
फागुन का महीना आया
फागुन का महीना आया
Dr Manju Saini
तुम न आये मगर..
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
Sangeeta Beniwal
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
ललकार भारद्वाज
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समलैंगिकता-एक मनोविकार
समलैंगिकता-एक मनोविकार
मनोज कर्ण
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
"युद्ध नहीं जिनके जीवन में, वो भी बड़े अभागे होंगे या तो प्र
Urmil Suman(श्री)
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
जाते-जाते गुस्सा करके,
जाते-जाते गुस्सा करके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
आज का दौर
आज का दौर
Shyam Sundar Subramanian
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
*खाती दीमक लकड़ियॉं, कागज का सामान (कुंडलिया)*
*खाती दीमक लकड़ियॉं, कागज का सामान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
2676.*पूर्णिका*
2676.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गांधी जी के नाम पर
गांधी जी के नाम पर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
इसकी तामीर की सज़ा क्या होगी,
इसकी तामीर की सज़ा क्या होगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
Er. Sanjay Shrivastava
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"नए सवेरे की खुशी" (The Joy of a New Morning)
Sidhartha Mishra
Loading...