Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2023 · 1 min read

वाह सीनियर लोग (हिंदी गजल/गीतिका)

वाह सीनियर लोग (हिंदी गजल/गीतिका)
“””””””””””””””””””””””””””””””””‘”””””””””
1
हँसते-गाते मौज मनाते, वाह सीनियर लोग
मस्ती में देखो इठलाते , वाह सीनियर लोग
2
नौजवान भी इनके आगे, पानी ही भरते हैं
अगर डाँस करने पर आते,वाह सीनियर लोग
3
बूढ़ेपन की परिभाषा का, होता मन से रिश्ता
मन से नौजवान कहलाते, वाह सीनियर लोग
4
सुबह सवेरे उठकर कसरत, लिखना- पढ़ना जारी
फिर समाज कार्यों में जाते ,वाह सीनियर लोग
5
साठ साल के यह कब बूढ़े, सौ तक इनमें यौवन
लगता जैसे उम्र घटाते, वाह सीनियर लोग
6
कहलाते अवकाशप्राप्त हैं, पर अवकाश कहाँँ है
सूरज अब भी रोज उगाते ,वाह सीनियर लोग
7
खटिया पर कब पड़े- पड़े, इनको अच्छा लगता है
जब देखो तब दौड़ लगाते, वाह सीनियर लोग
8
हुए रिटायर, फिर भी अपनी पेंशन के रुपयों से
पूरे घर का खर्च चलाते , वाह सीनियर लोग
9
बच्चों के कब मोहताज हैं ,बच्चे इनका खाते
इसीलिए तो हुक्म चलाते, वाह सीनियर लोग
“”””””””””””””””””””””‘”””””””””””””””””””””””””
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तरप्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-64💐
💐अज्ञात के प्रति-64💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
A Donkey and A Lady
A Donkey and A Lady
AJAY AMITABH SUMAN
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
नदी
नदी
Kumar Kalhans
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
मन मन्मथ
मन मन्मथ
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
"लू"
Dr. Kishan tandon kranti
चोट
चोट
आकांक्षा राय
कविता
कविता
Shiva Awasthi
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"वो ख़तावार है जो ज़ख़्म दिखा दे अपने।
*Author प्रणय प्रभात*
#हँसी
#हँसी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
2432.पूर्णिका
2432.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
शाबाश चंद्रयान-३
शाबाश चंद्रयान-३
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
Loading...