Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

वासंती बयार

बहकी- बहकी सी लगे, ये वासंती बयार।
सरसों से आंचल सजा, बैठी घर के द्वार।।
धरा ने ओढ़ी चूनर ,किया नव श्रृंगार।
पात- पात खिल उठा ,पा मधु मादक प्यार।।
जाग उठे चराचर सुन, मौसम की मनुहार।
धन्य हुई धरा रूपसि, पा अनंग उपहार।।
हवा कुनकुनी धूप में, रही केश संवार।
भवॅंरों- सी गुंजन करे, वह मतवाली नार।।
अलबेले ऋतुराज का ,अलबेला उपकार।
सतरंगी सपन पे दी, झीनी चादर डार।।
मदहोश हो गई प्रकृति ,छेड़े ऐसे तार।
सरगम भी सरगम हुई ,गाकर राग मल्हार।।
सब बदला ऋतुराज ने, किया प्रेम ही सार।
नाच उठा मन -मयूरा, पा भावों का हार।।
दहक उठा पलाश पिया, विरहन करे पुकार।
तुम बसे परदेस पिया , सूना सब संसार।।
मौन मूक मुखरित हुए, फूट पड़े उद् गार।
आडोलित हुआ हृदय ,कैसे पाए पार?

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर (राजस्थान)

4 Likes · 2 Comments · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
Ravi Prakash
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"ज्ञान-दीप"
Dr. Kishan tandon kranti
"मेरी नयी स्कूटी"
Dr Meenu Poonia
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
हजार आंधियां आये
हजार आंधियां आये
shabina. Naaz
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
💐प्रेम कौतुक-461💐
💐प्रेम कौतुक-461💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
वही जो इश्क के अल्फाज़ ना समझ पाया
Shweta Soni
I know people around me a very much jealous to me but I am h
I know people around me a very much jealous to me but I am h
Ankita Patel
डर के आगे जीत है
डर के आगे जीत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दलदल में फंसी
दलदल में फंसी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
#क़ता (मुक्तक)
#क़ता (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जी लगाकर ही सदा
जी लगाकर ही सदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
*फल*
*फल*
Dushyant Kumar
Loading...